कभी भारत में चलते थे 5000 और 10000 रुपये के नोट,क्या आपने देखा


नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका हमारे न्यूज़ चैनल में। ऐसा पहली बार नहीं है कि इतना बड़ा नोट रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया छापा हो इससे पहले भी हमारे देश में 5000 और 10000 के नोट प्रचलन नहीं थे भारतीय रिजर्व बैंक मिसाल 1938 मे पहली बार बेपतल मुद्रा की छापाई की थी जो कि 5 रूपये,10 रूपये100 रूपये,1000 रूपये और ₹10000 की थी भारतीय रिजर्व बैंक ने 1946 में किसी कारणवश ₹1000 और 10000 रूपये का नोट छापना बंद कर दिया था उसके बाद फिर से 1954 में 1000, 5000 और 10000 के नोटों की छपाई शुरू कर दी गई बाद में धीरे-धीरे जरूरत और बाजार के नाम के आधार पर यह निर्णय लिया गया कि 5000 और 10000 हाजार के मुद्रा की छपाई बंद कर दिया जाए साल 1978 में 5000 और 10000 रुपये के नोट पुरी तरह से बंद कर दिए गऔर 1000 रूपये के नोट की छापाई लगातार चलती रही थी।

भारतीय मुद्रा का इतिहास भारतीय रिजर्व बैंक के आंगन से प्राप्त किया जा सकता है और उसके बाद साल 2016 के अंत में ₹2000 के नोट की छपाई शुरू कर दी गई जो अभी भी चल रही है।शायद हो सकता है कि बाजार की मांग को डुबते हुए धीरे-धीरे बंद हो जाए और 1000 की नॉट जो पूरी तरह से बंद है उनकी छपाई शुरू हो सकती है।